-->
1971 में पाकिस्तान को धूल चटाने वाला टैंक बनेगा "ऐतिहासिक धरोहर"

1971 में पाकिस्तान को धूल चटाने वाला टैंक बनेगा "ऐतिहासिक धरोहर"

Indian Army 1971 Tank

भारतीय सेना को सबसे अधिक सैनिक देने वाले शेखावाटी अंचल में अब युद्धक टैंक को भी देखा जा सकेगा। 1971 की जंग में पाकिस्तान को धूल चटाने वाला यह युद्धक टैंक टी 55 भारतीय सेना ने सीकर की प्रिंस एजुकेशन एकेडमी को सौंपा है।

प्रिंस एजुकेशन हब के मुख्य प्रबंध निदेशक राजेश ढिल्लन ने बताया कि दो साल से प्रयास कर रहे थे। अब दो दिन पहले ही यह टैंक प्रिंस एकेडमी को मिला है। इसके लिए खास बात यह है भारतीय सेना की तरफ से युद्धक टैंक उन्हीं संस्थाओं को सौंपे जाते हैं, जो ये आश्वस्त करें कि वह उसकी सार संभाल अच्छे से कर सकेगी और उसका स्मारक बनाकर लोगों में देशभक्ति की भावना बढ़ाने का काम करेगी।

संस्था निदेशक जोगेंद्र सुंडा ने बताया कि टी 55 युद्धक टैंक के लिए जयपुर-बीकानेर बाइपास रोड स्थित प्रिंस एकेडमी के मुख्य द्वार पर इसका स्मारक बनाया जाएगा, जो महीनेभर में बनकर तैयार हो जाएगा। लोगों में सीकर में पहली बार कोई युद्धक टैंक देखने को मिलेगा। विद्यार्थियों के साथ आमजन भी अवलोकन कर सकेंगे। 36 टन वजनी इस युद्धक टैंक को बड़े ट्रक में रखकर खड़की पुणे से सीकर लाया गया गया है।

0 Response to "1971 में पाकिस्तान को धूल चटाने वाला टैंक बनेगा "ऐतिहासिक धरोहर""

Post a Comment

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article